Jain Songs 4 (Religious) | list

in > Religious
Jain Songs 4
about
listed in
category: Religious
type: Text
items
#Name
1मंत्र नवकार हमें प्राणो से प्यारा….
2 नमो नमो अरिहंताणं..
3 बाजे कुण्डलपर में बधाई के नगरी में…. 
4 प्रभुजी का पलना झूलो झूलो रे...
5 यह दुनिया चले ना प्रभु....
6 देखो सारी नगरिया बनी है दुलह….
7 दादा का दरबार....
8 मेरा आपकी कृपा से सब काम....
9 दीवाना तेरे आया दादा तेरी नगरी....
10 खम्मा खम्मा हो माहरा नाकोड़ा….
11 आंखें बंद करूँ या खोलू मुझको दर्शन....
12 जब कोई नहीं आता....
13 दुनियाँ से सहारा क्या लेना तेरा एक सहारा....
14 इतनी शक्ति हमें देना दाता....
15 ओ माहरा नेमजी....
16 तुमसे लागि लगन ले लो अपनी शरण....
17 जब से मिला मुझे प्रभु दरबार....
18 दुनिया से मैं हारा....
19 भला किसी का कर ना सको तो बुरा....
20 जीवन तो भैया एक रेल है....
21 वीर भजले....
22 भक्ति की है रात दादा आज थाने....
23 पारस प्यारा लागे....
24 सोना रो बाजो ठियो….
25 वीर झूले त्रिशला....
26 मेरे दोनों हाथों में....
27 नवकार जपने से सारे सुख मिलते है....
28 तमे आवजों रे शंखेश्वर मुक़ामे....
29 आसरा इस जहां का मिले न मिले....
30 जैनम जयति शाशनं….
31 कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं....
32 इस भव में जो ना मिले परभव में....
33 मेल मले के ना मले मारे …..
34 झगमगता तारला….
35 ऊंचा अम्बर थी...
36 गुरु मेरी पूजा....
37 ओ नाकोड़ा रा राजा थाने घणी रे...
38 आओजी आओ भैरवनाथ ओ नाकोड़ा....
39 एक दिन मिट जाएगा....
40 चलो बुलावा आया है....
41 त्रिशला मां थारो लाल कठे….
42 दर्शन दे जो नाथ….
43 तेरे मस्त मस्त दो नैन….
44 मेरे अच्छे कर्म मिला जैन धर्म….
45 जय जय कारा….
46 ओ पालनहारे निर्गुण और न्यारे….
47 श्रद्धा की चीनी और….
48 वीर झूले त्रिशला झुलावे….
49 शंखेश्वर वाले सुनियो जी एक सवाल दीवाने….
50 बोल बोल आदिश्वर दादा….
51 नागेश्वरका नाथ है हमारा तुम्हारा….
52 मारो आदिश्वर शेत्रुंजा केरो नाथ दादा रा….
53 एक बार मुखड़ों दिखाओ दिना नाथ जी….
54 राजुल की नगरी को छोड़ कर, संयम के….
55 भगवान मेरी नैया भव पार लगा देना....
56 म्हारो बेड़ो लगा दीजो पार नाकोड़ा रा....
57 सोना रो बाजोठीयो ने मोतीड़ा सु….
58 मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर....
59 नहीं चाहिए दिल दुखाना किसी का, सदा....
60 मत जाओ मारा महावीर स्वामी थोने….
61 यह जहां तो दीवाना है…
62 आज खुशी से झूम रहा मन….
63 अंखियों में नमी सी हो…
64 सब झूमो सब नाचो….
65 प्रभु रतन धन पायो….
66 जग घूमिया….
67 छाए काली घटाए तो क्या….
68 माँ बाप का बड़ा उपकार हमें सन्मार्ग....
69 वीर भजले रे भाया वीर भजले जरासो….
70 मने प्यारो लागे प्रभु तारो नाम....
71 चालो जी चालो सिद्धाचल जावा ए चालो….
72 है यह पावन भूमि यहाँ बार-बार आना....
73 हे किरतार मने आधार तारो जोजे न टूटी....
74 मेरे सर पर रख दो वीर अपने यह दोनों....
75 ना ओसवाल मुझे कहना न पोरवाल मुझे….
76 ऐ मालिक तेरे बन्दे हम....
77 बहुत याद करते है महावीर को हम….
78 ऐसी दशा हो भगवन जब प्राण तन से….
79 जिनवर तारु शासन आ जग मा छे महान….
80 विरति धर नो वेश प्यारो प्यारो लागे रे….
81 ओह गुरूसा थोरो चेलो बनु में….
82 आनी शुद्ध मन आस्था….
83 मन नो मोरलियो जपे तारु नाम….
84 मारा वाला प्रभु क्या रे मल शो मने….
85 आंख मरी उघड़े त्या शंखेश्वर देखो….
86 दादा आदेश्वर जी दूर थी आयो….
87 ऊंचा ऊंचा शत्रुंजय ना शिखरो सोहाय….
88 तने रात दिवस हूं याद करूं….
89 सिद्धा चलना वासी विमलाचल ना वासी….
90 मने वालू लागे दादा तारु नाम….
this page
code: l257
hits: 838
bookmark: